बसपा प्रमुख ने सरकार की कश्मीर नीति पर उठाये सवाल

लोकसभा चुनाव का शंखनाद होने के साथ ही देश में चुनावी माहौल गरमा गया है पर कुछ मुद्दे ऐसे हैं जिसको लेकर चुनाव आयोग पर भी सवाल उठ रहे हैं। बसपा सुप्रीमो ने जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव लोकसभा चुनाव के साथ ना कराये जाने का विरोध किया है उन्होने कहा है कि वहां पर विधान सभा चुनाव ना कराना सरकार की कश्मीर नीति पर सवाल खड़ा करता है। पूर्व सीएम ने कहा है कि जब केंद्रीय बल लोकसभा चुनाव करा सकते हैं तो उसी दिन विधान सभा चुनाव क्यो नही हो सकता?

बता दें कि चुनाव आयोग ने रविवार को लोकसभा चुनाव की घोषणा की है और इसी के साथ पूरे देश में आदर्श आचार सहिंता भी लागू हो गयी है। जम्मू कश्मीर की ठह लोकसभा सीटों के लिए पांच चरण मे मतदान कराये जायेंगे। अतिसंवेदनशील मानी जाने वाली अंनतनाग लोकसभा सीट पर तीन चरणों मे मतदान होना है। यह सीट आंतकवाद से सबसे ज्यादा प्रभावित मानी जाती है। बसपा लगातार केंद्र की मोदी सरकार की नीतियों पर सवाल उठाती रही हैं और अब चुनाव को लेकर भी माया हमलावर हो गयी हैं। 

पूर्व सीएम ने कहा कि मोदी ने 2014 में अच्छे दिनों के नारे दिये थे पर अब तक ऐसा कहीं भी देखने को नही मिला है,उन्होने कहा कि बीजेपी इस बार राष्ट्रवाद और राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। बसपा प्रमुख ने कहा कि बीजेपी यह बताये कि गरीब,किसानों व बेरोजगारों से किये गये अचछे दिनों के वादे पर क्या किया गया। माया ने तंज कसते हुए कहा कि इस सरकार का हवा हवाई विकास क्या हवा खाने गया है।

पूर्व सीएम ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में विधानसभा का आमचुनाव लोकसभा चुनाव के साथ नहीं कराना मोदी सरकार की कश्मीर नीति की विफलता का द्योतक है। जो सुरक्षा बल लोकसभा चुनाव करा सकते हैं वही उसी दिन वहाँ विधानसभा का चुनाव क्यों नहीं करा सकते हैं? केन्द्र का तर्क बेतुका है व बीजेपी का बहाना बचकाना है।

Related posts

Leave a Comment