Lok Sabha Election 2019: प्रियंका गांधी का पहला राजनीतिक भाषण, कहा- सोच समझकर अपना चुनाव करें

लोकसभा चुनाव की तारीखों के एलान के बाद अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस कार्यकारणी की बैठक 58 साल बाद आज गुजरात के गांधीनगर में हुई। इस बैठक में इस बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, पूर्व कांग्रेस अध्यक्षता सोनिया गांधी, नवनियुक्त महासचिव प्रियंका गांधी सहित कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्री व कई दिग्गज कांग्रेसी नेता मौजूद रहे।

बैठक के बाद सभा को संबोधित करते हुए प्रियंका गांधी ने पहली बार राजनीतिक तौर पर भाषण दिया और लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ये देश किसानों ने बनाया है, महिलाओं ने बनाया है, युवाओं ने बनाया है और किसी ने नहीं बनाया है। इस बार लोग समझदारी से अपना चुनाव करें।बैठक में इस बात पर फैसला हुआ कि लोकसभा चुनाव को लेकर गठबंधन से जुड़े सारे फैसले राहुल गांधी लेंगे और उनका फैसला अंतिम होगा।

वहीं बैठक के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि गलत नीतियों के चलते देश की अर्थव्यवस्था बिगड़ रही है, यूपीए सरकार की उपलब्धियां लोगों को बताना जरूरी है। वहीं कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद को पीड़ित बताने का प्रयास कर रहे हैं,लेकिन सच बात यह है कि मोदी शासन से जनता पीड़ित है। वहीं बीते पांच साल में देश की अर्थव्यवस्था डांवाडोल हो गई है। कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में पार्टी आला नेताओं ने प्रधानमंत्री मोदी को आडे़ हाथ लिया।

गुजरात में करीब छह दशक बाद शाहीबाग सरदार पटेल स्मारक भवन में हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह व कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा।

देश की अर्थ व्यवस्था को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने कहा कि हाल देश की अर्थव्यवस्था खराब है, परोक्ष रूप से मनमोहन सिंह ने जीएसटी व नोटबंदी के फैसले को गलत बताने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार झूठ फैलाती है, जनता को यूपीए सरकार की उपलब्धियां बताने की जरूरत है।

वहीं सोनिया गांधी ने कहा कि पार्टी हित में राजनीति नहीं होनी चाहिए, राष्ट्रहित में राजनीति होनी चाहिए। कार्यसमिति की बैठक से पहले पाटीदार नेता हार्दिक पटेल भी सरदार पटेल स्मारक पहुंचे। हार्दिक ने पार्टी में शामिल होने से पहले यहां कहा कि महात्मा गांधी, सरदार पटेल, जवाहर लाल नेहरु, सुभाष चंद्र बोस की पार्टी से जुडकर वे खुद को गौरवान्वित महसूस करते हैं।

कांग्रेस में शामिल होने से पहले हार्दिक ने पाटीदार नेता व पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल से आशीर्वाद लेने की इच्छा जताई लेकिन केशुभाई ने मिलने से साफ इनकार कर दिया। गत दिनों लेउवा पटेल समाज की मां अन्नपूर्णा के मंदिर पर आयोजित समारोह में पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने यहां केशुभाई को देखते ही उनके पांव छूकर आशीर्वाद लिया। पहले हार्दिक भी यादा कदा केशुभाई से मिलकर आशीर्वाद लेते रहे हैं लेकिन इस बार केशुभाई ने उनके कांग्रेस में शामिल होने के फैसले से नाराज होकर मिलने से ही इनकार कर दिया।

वहीं सुबह बैठक के पहले सभी ने महात्मा गांधी को श्रद्धाजलि अर्पित की। वहीं विजिटर्स बुक में राहुल गांधी ने लिखा, ‘बहुत ही प्रेरणादायी जगह, हमारे नेता की लौ जीवित रखने के लिए धन्यवाद।’

Related posts

Leave a Comment