भारतीय टीम की जान हैं गेंदबाज, हिन्दुस्तान देख रहा है वर्ल्ड कप जीतने का सपना

टीम इंडिया वनडे में लगातार जीत हासिल कर रही है। कंगारूओं को उन्हीं की सरजमीं पर रौंदने के बाद भारत ने कीवियों के खिलाफ भी सीरीज अपने नाम की। इसके बाद अपने घर में भी भारत वनडे में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। इस समय की भारतीय टीम को देखकर लग रहा है कि यह सभी मायनों में अच्छी है। इस टीम का हर एक खिलाड़ी अकेले दम पर मैच जिताने की काबिलियत रखता है। इस टीम के खिलाड़ी हारा हुआ मैच भी जीत में तब्दील करना जानते हैं। वैसे तो भारत की सफलता में सभी खिलाड़ियों का योगदान है। लेकिन सबसे खास भारतीय टीम की गेंदबाजी है। भारत इस समय वर्ल्ड क्रिकेट की ऐसी टीम बन चुका है। जिसके गेंदबाज किसी भी मैदान पर विपक्षी टीम को ढेर करने का माद्दा रखते हैं। इस टीम के गेंदबाज इसकी नई जान हैं जिसके दम पर पूरा हिंदुस्तान वर्ल्ड कप जीतने का सपना देख रहा है। 

एक वक्त था जब भारतीय गेंदबाज विश्व भर की टीमों के सामने संघर्ष करते नजर आते थे। लेकिन 2018 में दक्षिण अफ्रीका दौरे से भारतीय गेंदबाजों के प्रदर्शन में अलग तरह का उछाल आया है। इस टीम के गेंदबाज अब हर मैच में विपक्षी टीम को ऑलआउट कर सकते हैं। साफ है टीम इंडिया के गेंदबाज काफी लंबे समय से अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। इतने लंबे समय खेलने के बाद गेंदबाजों की फिटनेस भी जवाब देने लगती है जिसके लिए उन्हें आराम की जरूरत है। वर्ल्ड कप अब ज्यादा दूर नहीं है और टीम इंडिया के गेंदबाजों को अपनी फिटनेस बचाने के लिए आराम की जरूरत है। जिसके लिए शायद बीसीसीआई भारत के तेज गेंदबाजों को आईपीएल में आराम दे सकता है। इसका मतलब क्रिकेट प्रेमियों को अब आईपीएल में बुमराह की यॉर्कर देखने को नहीं मिलेगी। क्या अब आईपीएल में भुवनेश्वर कुमार सनराईजर्स हैदराबाद को आखिरी ओवर में जीत दिलाते नहीं देखे जाएंगे। क्या अब आईपीएल में मोहम्मद शमी विपक्षी बल्लेबाजों का विकेट नहीं उखाड़ेंगे।

आईपीएल के दूसरे चरण में नहीं दिखेंगे टीम इंडिया के तेज गेंदबाज ! 

दरअसल इस साल आईपीएल 23 मार्च से शुरू हो जाएगा। देश में चुनाव की वजह से आईपीएल के अभी कुछ ही मैचों की घोषणा की गई है। जिसका मतलब आईपीएल मई के बीच में जाकर ही खत्म होगा। वहीं टीम इंडिया को वर्ल्ड कप मैच 5 जून को खेलना है जिसको लेकर भारतीय गेंदबाजों को आराम चाहिए। टीम इंडिया के लिए कंगारूओं के खिलाफ दो वनडे मैच से रेस्ट मिलने के बाद टीम में वापसी करने वाले भुवनेश्वर कुमार को भी अपने पूरे आईपीएल खेलने पर संदेह है। भुवनेश्वर के मुताबिक ‘हम जितने मैचों में अभ्यास करते हैं, आईपीएल के दौरान आप जितनी यात्रा करते हैं और जिन अलग अलग स्थितियों में खेलते हैं उसका असर पड़ता है। ऐसे में सभी खिलाड़ियों के दिमाग में अपने खेल का सही प्रबंधन करना है। हम अभी इस बारे में नहीं सोच सकते लेकिन आईपीएल के पहले छह-सात मैचों के बाद ही हम इस बारे में फैसला कर पाएंगे।’ इसके अलावा भुवनेश्वर का मानना है कि ‘हमें विश्व कप के लिये भी पूरी तरह फिट रहना है। विश्व कप निश्चित ही हमारे दिमाग में है लेकिन हम आईपीएल के दूसरे चरण के बाद फिटनेस को देखेंगे।’

जाहिर है आईपीएल में भुवनेश्वर कुमार जहां सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलते हैं। वहीं जसप्रीत बुमराह मुंबई इंडियंस के लिए गेंदबाजी करते हैं। ये दोनों खिलाड़ी ही अपने टीमों के लिए महत्तवपूर्ण हैं। इन खिलाड़ियों की अनुपस्थिति में ऐसे खिलाड़ियों का विकल्प ढूंढ़ना आईपीएल फ्रेंचाईजियों के लिए काफी मुश्किल खड़ी कर सकता है। इन खिलाड़ी के बगैर नॉकआउट चरण में खेलना टीम के लिए सबसे ज्यादा परेशानी खड़ी करेगा। हालांकि बीसीसीआई इन गेंदबाजों को आराम इसलिए भी दे सकता है क्योंकि आईपीएल के मैच काफी लंबे वक्त तक चलते हैं। इस दौरान टीम के खिलाड़ियों को ज्यादा ट्रैवल करना पड़ता है जिसकी वजह से थकान होना लाजमी है। इस दौरान अगर भारतीय गेंदबाजों को इंजरी हो जाती है तो इसका खामियाजा वर्ल्ड कप में भुगतना पड़ सकता है। क्योंकि टीम इंडिया अपने तेज गेंदबाजों के दम पर वर्ल्ड कप जीतने का सपना सजा चुकी है और यह बात विराट कोहली को भी पता है कि इंग्लैंड की स्विंग लेती पिचों पर बुमराह, शमी और भुवनेश्वर कुमार का फिट होना काफी जरूरी है। इंग्लिश सरजमीं पर मौसम और हालात तेज गेंदबाजों के अनुकूल होते हैं और अगर भुवनेश्वर, बुमराह और शमी की गेंदों ने वहां पर जादू दिखाया तो भारत को तीसरी बार विश्व कप जीतने से कोई नहीं रोक सकता है।


Related posts

Leave a Comment