बस नेतृत्व की जरूरत, हुनर की कमी नहीं

देश में छह मुख्य समस्याएं हैं। बेरोजगारी पहले नंबर पर है। इसके बाद आतंकवाद भ्रष्टाचार महंगाई पर्यावरण और सामाजिक भेदभाव है देश में छह मुख्य समस्याएं हैं। बेरोजगारी पहले नंबर पर है। इसके बाद आतंकवाद, भ्रष्टाचार, महंगाई, पर्यावरण और सामाजिक भेदभाव है। छह में से पांच समस्याओं पर अंकुश के लिए कानून बना है। मगर बेरोजगारी के लिए देश में कोई कानून नहीं है। रोजगार न पैदा करने वालों को भी कार्रवाई के दायरे में लाया जाए। विश्वविद्यालय यह काम कर सकते हैं। शनिवार को मानव संसाधन विकास मंत्रालय और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की ओर से आयोजित चार दिवसीय अकादमिक लीडरशिप कार्यक्रम में एमजेपी रुविवि के कुलपति प्रो. अनिल शुक्ल ने यह बातें कहीं। बेरोजगारी पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि हमारे पास हुनर की कमी नहीं है। बस, प्रोफेसरों को लीडरशिप की भूमिका में आना होगा। फ्रांस राफेल बनाता है, हम उससे खरीदते हैं। हमें ऐसे छात्र तैयार करने हैं जो देश में ही राफेल बनाएं। कहा कि आज आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का दौर है। इसके विकास के लिए देश का बजट करीब 35 हजार करोड़ का है, जो चीन की तुलना में एक फीसद है। मुख्य अतिथि कानपुर विवि की कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता रहीं। हैदराबाद के प्रो. वी सुधाकर आदि ने विचार रखे। कार्यक्रम समन्वयक प्रो. तूलिका सक्सेना ने अतिथियों का धन्यवाद किया। कार्यवाहक कुलसचिव प्रो. संजय मिश्रा, प्रो. एके जेटली, डॉ. अशोक कुमार, डॉ. अजय श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

Related posts

Leave a Comment