Alert: अगले कुछ घंटों में राजस्थान से आ रहा है दिल्ली-NCR के लिए बड़ा खतरा

तेज धूप और गर्मी से परेशान दिल्ली-एनसीआर के लोगों के लिए पश्चिमी राजस्थान से बड़ी मुसीबत आ रही है। भारतीय मौसम विभाग (Indian Meteorological Department) की मानें तो मंगलवार से राजस्थान की धूल दिल्ली और एनसीआर के लोगों की मुसीबत और बढ़ाएगी। दरअसल, राजस्थान में चल रही धूल भरी आंधी की वजह से दिल्ली में धूल का पहुंचना शुरू हो गया है। मंगलवार से इसका असर भी दिखना शुरू हो जाएगा। मौसम विभाग के मुताबिक, मंगलवार और बुधवार शाम को  धूल भरी आएगी।

इससे पहले धूप की तपिश और गर्मी की चुभन दिल्ली में सोमवार को भी जारी रही। सुबह निकली तेज धूप दिन चढ़ने के साथ-साथ और तीखी होती गई। दोपहर में गर्म हवा के थपेड़ों से दिल्ली वासी बेहाल रहे। हालांकि, मंगलवार और बुधवार को तेज धूल भरी आंधी चलने से की संभावना जताई जा रही है।

मौसम विभाग के मुताबिक सोमवार का अधिकतम तापमान 42 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो कि सामान्य से तीन डिग्री ज्यादा है, जबकि न्यूनतम तापमान 23 डिग्री सेल्सियस रहा, जो सामान्य से एक डिग्री कम है। पालम इलाके में सबसे ज्यादा गर्मी महसूस की गई। यहां का अधिकतम तापमान 43.4 डिग्री सेल्सियस रहा। लोधी रोड पर 42 डिग्री और आयानगर केंद्र में 42.4 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया।

अगले सप्ताह भी जारी रहेगी ऐसी ही गर्मी
मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले सप्ताह भी लोगों को इसी तरह की गर्मी बर्दाश्त करनी पड़ेगी। मंगलवार और बुधवार की शाम धूल भरी आंधी आ सकती है, लेकिन इससे तापमान में गिरावट नहीं होगी। मंगलवार को आंशिक रूप से बादल भी छाए रहेंगे। अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है।

दूसरी तरफ दिल्ली की हवा में धूल कणों की मात्र भी बढ़ी हुई है। इसके चलते सोमवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 264 के अंक पर दर्ज किया गया। इस स्तर की हवा को खराब श्रेणी में रखा जाता है।

बादल गरजेंगे पर बरसेंगे नहीं
मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि मंगलवार और बुधवार को राजधानी व आसपास के क्षेत्रों में धूल भरी आंधी चल सकती है। इस दौरान हल्के बादल के साथ गर्जना भी हो सकती है। हालांकि इससे तापमान में बहुत ज्यादा गिरावट आने की संभावना नहीं है।

राजस्थान की धूल बढ़ाएगी दिल्ली का प्रदूषण
करीब तीस किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवा के कारण तापमान में तो ज्यादा इजाफा नहीं हुआ, लेकिन लोगों को धूप के थपेड़ों का सामना अवश्य करना पड़ा। वहीं, हवा में धूल की मात्र बढ़ने से दिल्ली की हवा फिलहाल खराब श्रेणी में बनी हुई है। पश्चिमी राजस्थान की धूल दिल्ली के लोगों को परेशान करेगी और इस दौरान प्रदूषण का स्तर खराब से बेहद खराब पर भी पहुंच सकता है।

दिल्ली की ढाल अरावली पर ‘वार’

यहां पर बता दें कि दिल्ली-एनसीआर को राजस्थान की धूल से बचाने वालीं अरावली की पहाड़ियां खुद संकट में हैं। यही वजह है कि दिल्ली, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश की आबोहवा हर दूसरे-तीसरे महीने भी प्रभावित होने लगी है। 

अरवाली की पहाड़ियां दिल्ली, हरियाण और पश्चिमी उत्तर प्रदेश को धूल और प्रदूष से बचाती रही हैं, लेकिन हाल का एक अध्ययन बताता है कि अरावली में जारी खनन से थार की रेत दिल्ली की ओर लगातार खिसकती जा रही है। राजस्थान से हरियाण तक एक विशाल इलाके में खनन से जमीन की उर्वरता खत्म हो रही है।

इससे हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सूखा और राजस्थान के रेतीले इलाके में बाढ़ की स्थिति बनने लगी है, क्योंकि मानसून का पैटर्न बदलता जा रहा है प्रदूषण के मोर्चे पर हालांकि पहले ही बहुत नुकसान हो चुका है, पर अरावली में अवैध खनन पर पूरी तरह अंकुश लगाकर अब भी पर्यावरण को कमोबेश बचाया जा सकता है।

Related posts

Leave a Comment